Follow by Email

Wednesday, 30 October 2013

Poem


                             मन
मन बोर हुआ  तो चोर हुआ ,
बिन पतंग के डोर हुआ |
हर साज  में यूहीं बहता जा , और कहता जा
फिर रात गयी ,फिर भोर हुआ |


No comments:

Post a Comment